वन महोत्सव पर शायरी- वन महोत्सव पर पौधे लगाकर कई उद्देश्यों को साधा जाता है जैसे वैकल्पिक इंधन व्यवस्था, खाद्यान्न संसाधन बढ़ाना, उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिये खेतों के चारों ओर शेल्टर बेल्ट बनाना, पशुओं के लिये चारा उत्पादन, छाया व सौंदर्यकरण, भूमि संरक्षण आदि . यह लोगों में पेड़ों के प्रति जागरुकता की शिक्षा का उत्सव है और यह बताता है कि पेड़ लगाना व उनका रखरखाव करना ग्लोबल वार्मिंग व प्रदूषण को रोकने में सबसे अच्छा रास्ता है. वन महोत्सव जीवन के उत्सव तरह मनाया जाता है, इसी को देखते हुए आज हम आपको पेश करने जा रहे है, an Mahotsav day shayari, 100 words, 140 words, 220 words, जिनको आप अपने दोस्तों, परिवार व सोशल मीडिया पर के साथ शेयर कर सकते है |


Onlinehindimaster.com


Forest Day Shayari in Hindi


आओ बच्चो एक बात बताऊँ बात है जे बड़े ही ज्ञान की पेड़ पौधे ही करते हैं रक्षा हमारेप्राण की। वन महोत्सव की शुभकामना !

ये पेड़ ये पत्ते भी नाराज हो जाएं यदि परिंदे भी हिन्दू मुसलमान हो जाएं। राष्ट्रीय वन महोत्सव की बधाई !

पेड़ों की शोभा है न्यारी न्यारी तभी तो खिलें हैं फूल क्यारी क्यारी जाने क्या सोच कर पेड़ काट डाला क्यों धरती का दिल चीर डाला क्यों नन्हे पक्षियों को जीते जी मार डाला !

Van Mahotsav Par Shayari


संबंधित इमेज


नीचे हम आपको पेश कर रहे है, Van Mahotsav day shayari, Forest Day Poems in Hindi With Images , shayari on Van Mahotsav, Mahotsav lines in hindi, Van Mahotsav sms shayari, shayari on Forest Festival in Hindi, Forest Festival shayari in Hindi, Speech On Van Mahotsav in Hindi, Van Mahotsav week in hindi, वन महोत्सव की शायरी इन हिंदी फॉर व्हाट्सएप्प, साहरी, स्टेटस, एसएमएस, एसएमएस हिंदी फॉण्ट, जिनको आप सोशल मीडिया व दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है |


भगवान का वरदान हैं पेड़ पर्यावरण की शान हैं पेड़ हमारी सांस हैं पेड़ फिर क्यों काट रहे हो पेड़ ? वन महोत्सव की शुभकामना !

पेड़ों के दर्द को क्यों नही समझते हम पेड़ों के दर्द को कम क्यों नही करते हम एक पेड़ तुम भी लगाओ एक पेड़ हम भी लगाएं राष्ट्रीय वन महोत्सव की बधाई !

वन महोत्सव की शायरी


जिस बंजर भूमि पर है मायूसी हर उस कोने में हरियाली लाएं कस्में तो खा लेते है हम सब पर उन कस्मों पर क्यों नही चलते हम राष्ट्रीय वन महोत्सव की बधाई !

पेड़ों के दर्द को क्यों नही समझते हम 
पेड़ लगाएंगे तो फल भी खाएंगे
लकड़ियाँ तो मिलेंगी ही, छाया भी पाएंगे
जब-जब ये बारिश आएगी
राष्ट्रीय वन महोत्सव की बधाई !

Forest Day Shayari in Hindi Font


पेड़ों के गीत सुनाएगी पेड़ों में भी तो जीवन है फिर पेड़ काटते वक़्त क्यों नही डरते हम पेड़ों के दर्द को क्यों नही समझते हम राष्ट्रीय वन महोत्सव की बधाई !

सब को पता है पेड़ ही तो जीवन है फिर मोम की तरह क्यों नही पिघलते हम पेड़ों के दर्द को क्यों नही समझते हम पेड़ों के दर्द को कम क्यों नही करते हम ! वन महोत्सव 2019 !

Van Mahotsav Par Shayari


आइये नीचे हम आपको पेश कर रहे, hayari on Van Mahotsav, Mahotsav lines in hindi, Van Mahotsav sms shayari, shayari on Forest Festival in Hindi, इनको आप गूगल ट्रांसलेट करके Hindi, Prakrit, Urdu, sindhi, Punjabi, in Marathi, Gujarati, Tamil, Telugu, Nepali, सिंधी लैंग्वेज, Kannada व Malayalam hindi language व hindi Font में जानना चाहे जिसमे की Van Mahotsav Two Lines Shayari, Message, SMS, Quotes, Whatsapp Status, Saying, Slogans, slogan on yoga day, sms 140 & SMS in 120 Words & Characters के साथ हर साल 2015, 2016, 2017, 2018, 2019 के लिए शायरियां मिलती है जिन्हे आप colleagues, office workers, officers, employees, boss etc. के साथ Facebook, WhatsApp व Instagram पर post व शेयर कर सकते हैं |


सब को पता है पेड़ ही तो जीवन है फिर मोम की तरह क्यों नही पिघलते हम पेड़ों के दर्द को क्यों नही समझते हम पेड़ों के दर्द को कम क्यों नही करते हम !! वन महोत्सव 2019 !

हरा-भरा रहेगा आँगन अपना पेड़ों संग ही जुड़ा है जीवन अपना पेड़ों को काटने वालो कुछ तो शर्म करो अपने पत्थर दिल को थोडा सा नर्म करो वन महोत्सव 2019 !

वन महोत्सव पर शायरियाँ


यादों का शहर देखो बिलकुल वीरान है,
दूर दूर न जंगल है न ही कोई मकान है,
वन महोत्सव 2019 !

कभी भूल से भी मत जाना मुहब्बत के जंगल मेँ… यहाँ साँप नहीँ हम सफर डसा करते हैँ बस्ती जंगल सी लगे, मैँ जाऊँ किस ओर, घात लगाये राह मेँ, बैठे आदमखोर ! वन महोत्सव 2019 !

Shayari On Forest Day in English Font


Van Mahotsav HD Wallpapers के लिए इमेज परिणाम


I frequently tramped eight or ten miles through the deepest snow to keep an appointment with a beech-tree, or a yellow birch, or an old acquaintance among the pines !

I wither slowly in thine arms, Here at the quiet limit, Here at the quiet limit of the world. A white-haired shadow roaming like a dream, The ever silent spaces of the East !

Forest Day English Font Shayari


Ay me! ay me! the woods decay and fall; The vapours weep their burthen to the ground. Man comes and tills the earth and lies beneath, And after many a summer dies the swan. Me only cruel immortality consumes !

The morning woods were utterly new. A strong yellow light pooled beneath the trees; my shadow appeared and vanished on the path, since a third of the trees I walked under were still bare, a third spread a luminous haze !

You Also Like: 

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.