Health

Piliya [Jaundice] rog ke lakshan or gharelu upay

हैल्लो फ्रेंड्स कैसे हो आप उम्मीद करते है की आप बिलकुल सही होंगे दोस्तों आज हम आपको एक बहुत ही खतरनाक बीमारी के बारे में बताने जा रहे, जिसका नाम है की पीलिया रोग किन करनो से होता है और इससे बचने के घरेलु उपाय, दोस्तों हम उम्मीद करते है की आपको हमारी आज की इस आर्टिकल की जानकारी बेहद पसंद आएगी,

दोस्तों पीलिया एक ऐसी बीमारी होती है जिसका सही टाइम पर इलाज नहीं कराया जाए तो यह मुख्य रूप से बहुत ही ज्यादा खतरनाक बन जाती है, दोस्तों यह बीमारी ज्यादातर बच्चो को ही होती है, और यह बीमारी तब होती है जब हमारे शरीर में खून के बिलीरूबिन की मात्रा अधिक बढ़ जाती है, और दोस्तों इस बीमारी में आपको यह तो पता ही होगा की लोगो को पीली सी पेशाब आती है, यह इसी बीमारी की बजह से होती है,अब दोस्तों आपको यह तो पता चल ही गया होगा की यह पीलिया की बीमारी कितनी खतरनाक होती है, चलिए दोस्तों अब हम आपको यह बाता दें की पीलिया कितने प्रकार की होती है और यह किन कारणों से होती है,




You Also Read- dimag tej karne or yaddasht badhane ke gharelu upay

पीलिया के प्रकार

दोस्तों पीलिया की यह बीमारी तीन तरह की होती है जैसे-

1- हिमोलिटिक पीलिया- जैसे की दोस्तों हमने आपको अपने इस लेख में ऊपर बताया था की हमारे शरीर में खून के बिलीरुबिन की मात्रा बढ़ जाती है, तब उसको हम हिमोलिटिक कहते है, दोस्तों इस बीमारी का एक और भी लक्षण होता है, जब हमारे शरीर में खून की कोशिकाएं की मात्रा नस्ट हो जाती है ता यह बीमारी बनने की सम्भाबना बढ़ने लगती है।

2- अवरुद्ध पीलिया- दोस्तों कहा जाता है की यह बीमारी ज्यादातर ज्यादा उम्र के लोगो को होती है, दोस्तों जब हमारे शरीर में बिलीरुबिन की मात्रा एकत्रित होकर कोशिकाओं का रूप धारण कर लेती है और दोस्तों पित्त का रस जब अग्नाशय के रस्ते में रुक जाता है तब यह बीमारी हमारे शरीर में होने लगती है,




3- हेपैटोसेलुलर पीलिया- दोस्तों यह पीलिया की तीसरी बीमारी हमारे लीवर के सेल्स पर जब जहरीली दवा मतलब किसी भी दवाई का साइडएफेक्ट होने से यह बीमारी होती है।

Is Post Se Related- Safed dago se mukti pane ke aasangharelu upay

 

पीलिया के लक्षण

1- पीली पेशाब आना- दोस्तों इस बीमारी की मुख्य बजह यही होती है जब हमारी पीली पेशाब आती है, तो हमको समझ लेना चाहिए की पीलिया की बीमारी होने लगी है, दोस्तों बैसे तो पीली पेशाब का आना एक बजह और भी हो सकती है जब हमारे शरीर का बुखार तेज होने लगता है, तब भी पीली पेशाब आने के लक्षण होने लगते है,




2- पेट में ज्यादा दर्द होना- दोस्तों जब हमारे पेट में ज्यादा दर्द होता है तो, पीलिया की बीमारी होने के लक्षण बढ़ जाते है, इसलिए जब भी पेट में ज्यादा दर्द हो तो हमको तुरंत डॉक्टर से चेकउप करना चाहिए,

3- हल्की हल्की आँखे सफ़ेद होना- पीलिया की सबसे मुख्य बजह यही होती है जब हमारी आँखे हल्की हल्की पीली पड़ने लगती है तो हमको समझ लेना चाहिए की पीलिया के लक्षण होने लगे है,

5- भूक नहीं लगना- दोस्तों बहुत से लोग भूक नहीं लगना यही समझ लेते है की भूक तो बढ़ती और घटती ही रहती है, लेकिन दोस्तों इसका एक और भी कारण होता है जिसका नाम पीलिया है, यह रोग भूक नहीं लगना और बजन को घाट जाने से भी आने से होता है,

6- शरीर में अधिक खुजली होना- दोस्तों यह खुजली की  ज्यादा खतरनाक होती है, जिसके कारण हमको पीलिया के रोग होने के लक्षण बढ़ जाते है, इसलिए दोस्तों हमको जब भी खुजली की बीमारी लगे तो तुरंत डॉक्टर से चेकउप कराना चाहिए,

7- शरीर में खून की कमी- दोस्तों यह बीमारी हमारे शरीर में खून की कमी से भी होने लगती है, इसलिए हमको रोज़ाना अनार का सेवन करना चाहिए क्योंकि दोस्तों अनार एक ऐसा फल होता है जो खून की कमी को दूर करता है।

पीलिया के बचाब एबं घरेलु उपाय

1- गन्ने का जूस- दोस्तों जो लोग इस बीमारी में फंसे हुए है उनको रोज़ाना गन्ने का जूस पीना चाहिए, दोस्तों अगर गन्ने के जूस में नीबू मिलाया जाए तो और भी अच्छा होता है, इसलिए हमको रोजाना गन्ने के जूस में नीबू को निचोड़ कर पीना चाहिए।

2- गुनगुना पानी- दोस्तों हमको रोज़ाना सुबह उठने के टाइम रोज़ाना एक से दो गिलास गुनगुना पानी के साथ नीबू के रस को निचोड़ कर पीना चाहिए, इससे हमारी यह पीलिये की बीमारी जल्दी ठीक होने लगती है।

3- टमाटर का जूस- दोस्तों हमको रोज़ाना एक गिलास टमाटर के जूस में नमक मिलाकर पीना चाहिए, और इसका उपयोग हमको रोज़ाना करना चाहिए, यह हमारी इस पीलिया की बीमारी में बहुत ही ज्यादा काम आती है।

4- नारियल का पानी- दोस्तों  खतरनाक बीमारी में नारियल का पानी और सेब का जूस बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है, इसलिए हमको रोज़ाना सुबह को इसका इनका प्रयोग करना चाहिए।

5- आंकड़े की जड़- दोस्तों अगर आपको यह बीमारी है तो आपको आंकड़े के पेड़ की जड़ लेना है और उसमे सहद लगभग एक चम्मच मिलाना है और फिर इन दोनों को अच्छे से मिलकर आपको अपनी नाख में इसकी एक बूँद डालना है, यह हमारी पीलिया की बीमारी को जल्द ही खत्म कर देता है।

Yeh bhi pade- Chehre ko gora karne ke kuch gharelu upay

 

6- आंबले रस- इस बीमारी में आंबले का रस बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है, दोस्तों अगर हमको आंबले के रस के साथ एक चम्मच सहद का रस मिलाकर खाया जाए तो और भी अच्छा होता है,

7- चने की दाल- दोस्तों आपको चने की दाल को पानी में भिगोकर रख देना है, और फिर उसको  लगभग 12 घंटे बाद पानी से निकलकर गुड़ में मिलकर खाना चाहिए।

8- गाजर और गोभी का रस- दोस्तों बैसे तो गाजर का और गोभी का रस मिलना मुश्किल होता है लेकिन इस बीमारी को दूर करने के लिए हमको इसका प्रयोग करना चाहिए, दोस्तों आपको इन दोनों का रस मिलकर दिन में 2 बार पीना चाहिए, इसके नियमित सेवन से जॉन्डिस की इस बीमारी में बहुत ही ज्यादा फायदा होता है।

9- पपीते के पत्तियां- दोस्तों क्या आपको पता है की यह पपीते की पत्तियां हमारी इस बीमारी में बहुत ही ज्यादा लाबधायक होती है, आपको कुछ पपीते की पत्तिया लानी है और उनको अच्छे से पीस लेना है, तभी उसमे थोड़ा सा आपको सहद मिला लेना है, और फिर इसको खा लेना है, इसके रोज़ाना प्रयोग  बीमारी में बहुत ही ज्यादा फायदा होता है,

10- मूली की पत्तियां- दोस्तों आपको मोली की पत्तियां लेनी है और फिर उनका रस निकालना है, और फिर आपको उसको अच्छे से छान लेना है, लगभग आपको इसका एक गिलास रस रेगुलर पीना है,

You Also Read- Pregrancy me baar baar toilet aane ke lakshan

तो दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल कैसा लगा आपको हमे कमेंट कर कर जरूर बताएं, और अगर पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कर दें।

                                                                           धन्यवाद

Miraj Khan
Hello Friends My Name is Miraj Khan and My Blog Onlinehindimaster.com. I Share My Real Experiences Knowledge in Hindi on This Blog. I Write Some Category on This Blog. Adsense, Blogging, WordPress, Internet, Health And Festivals.

2 Replies to “Piliya [Jaundice] rog ke lakshan or gharelu upay

Leave a Reply