Biography

मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जीवन परिचय- M. Visvesvaraya Biography in Hindi

हैल्लो फ्रेंड्स आज हम आपको बताएँगे एम् विश्वेश्वरैया की बायोग्राफी हिंदी में दोस्तों मैं आशा करता हूँ की आपको हमरी बताई गई जानकारी बहुत पसंद आएगी। तो दोस्तों शुरू करते है आज का आर्टिकल।

दोस्तों  एम् विश्वेश्वरैया भारत  देश के एक महान इंजीनियर वैज्ञानिक और राष्ट्र निर्माता रहे थे। और जो भी उन्होंने अच्छे काम किये थे उनको दृस्टि रखते हुए भारत देश की सरकार ने उन्हें 1955 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

भारत में उनका जन्म दिन एक अभियंता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

एम् विश्वेश्वरैया  का जन्म और उनका योगदान ,

दोस्तों इनका जन्म 15 सितम्बर 1861 में दक्षिण भारत के एक कोलार जिले के मुदेनाहल्ली नमक गाँव में हुआ था। कहा जाता है की इनका जन्म एक तेलुगु परिवार  में हुआ था। इनके पिता जी का नाम पंडित श्रीनिवास शास्त्री था। और इनकी माता जी का नाम ब्यांकचम्म था।

दोस्तों कहा जाता है की इनको बच्चपन में रामायण, महाभारत, पंचतंत्र जैसी कथाएं बहुत पसंद थी। और इनके पिता जी संस्कित भाँषा के विद्वान थे। दोस्तों जब ये 14 बर्ष के हुए थे तभी इनके पिता जी की मृत्यु हो गई थी।

विश्वेश्वरैया जी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा वहां पर ही की थी जहाँ पर उनका जन्म हुआ था। और वह आगे की शिक्षा पाने के लिए बैंगलोर चले गए और वहाँ पर उन्होंने एक महाविद्यालय में अपना दाखिला लिया। उस समय उन्हें धन अभाब की कमी पड़ी।

इन्हे भी पड़ें

Kalpana Lajmi Biography in Hindi

 

इसलिए इनको ट्यूशन की ही पढ़ाई करनी पड़ी। तभी 1882 में उन्होंने बी.ए की शिक्षा उत्तीर्ण अंको से प्राप्त की। और फिर सरकार ने उन्हें इंजीनियर की शिक्षा के लिए पूना भेजा और फिर वहाँ पर उन्होंने साइंस कॉलेज में दाखिला दिल वाया गया।

उस कॉलेज के प्रिंसिपल एक अंग्रेज थे। विश्वेश्वरैया की योग्यता देखते हुए वहाँ के प्रिंसिपल ऍंगरेज ने वह कॉलेज के चेयरमैन से मुलाकात  करबाई उस चेयरमैन का नाम था रंगाचारलू। और उन्होंने उनकी मेहनत और लगन को देखते हुए उनकी छात्रबृत्ति पूर्ण तरीके से ब्यबस्था कर दी।

 

और फिर उन्होंने 1883 में इंजीनियर की डिग्री प्राप्त की। इंजीनियर की डिग्री प्राप्त करते ही उन्हे जल आपूर्ति का काम दे दिया गया और फिर उन्होंने 1994 में सख्खर बांध का निर्माण किया इससे उन्होंने पूरे सिंध के लिए पानी की ब्यबस्था कर दी। किसानो के खेतों में सिंचाई की ब्यबस्था कर दी।

इसी प्रकार उन्हें एक बड़ा इंजीनियर सिद्ध किया गया था। बहार देशो में उन्हें काम सौंप दिया गया और वह अपनी लगन और मेहनत से आगे बढ़ते गए।

हर जगह पर उन्होंने पानी निकल जाए इसलिए नालियों का निर्माण किया। उनकी मेहनत और लगन को देखते हुए मैसूर के महारजा ने उनको मुक्यमंत्री सिद्ध कर दिया।

 

हैल्लो फ्रेंड्स तो यह थी हमारी आज की पोस्ट दोस्तों अगर आपको इसके बारे में  कुछ पूंछना या कुछ भी बताना हो तो आप तो आप कमेंट करकर हमको बता सकते है और अगर दोस्तों हमारी आज की पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर  जरूर कर दे

Miraj Khan
Hello Friends My Name is Miraj Khan and My Blog Onlinehindimaster.com. I Share My Real Experiences Knowledge in Hindi on This Blog. I Write Some Category on This Blog. Adsense, Blogging, WordPress, Internet, Health And Festivals.

2 Replies to “मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जीवन परिचय- M. Visvesvaraya Biography in Hindi

Leave a Reply